Sagheer Usmani - Youth Leader

Sagheer Usmani - Youth Leader Sagheer Usmani - Youth Leader
0 82.13337

no images yet

SHARE WITH OTHERS
See new updates

Sagheer Usmani - Youth Leader

Latest Updates

कल्याण सिंह के पोते और बहू को टिकट ,
राजनाथ सिंह के बेटे को टिकट ,
ब्रजभूषण शरण सिंह के बेटे को टिकट ,
कलराज मिश्रा के बेटे को टिकट ,
लाल जी टंडन के बेटे को टिकट ,
हुकुम सिंह की बेटी को टिकट ,
ब्रह्मदत्त दिवेदी के बेटे को टिकट ,
संजय सिंह की पत्नी को टिकट ।
स्वामी प्रसाद मौर्य के बेटे को टिकट,
प्रेमलता रिटायर की बेटी को टिकट,
सांसद सर्वेश सिंह के बेटे को टिकट,
शेर बहादुर सिंह के बेटे को टिकट,
सांसद कौशल किशोर की पत्नी
आदि - आदि
भाजपा परिवार वाद के विरोधी है ????

दूसरी पार्टिया करे तो परिवार वाद ,
भाजपा करे तो राष्ट्रवाद ।

अरे
भाजपा परिवार वालो , अपराधी गणो व रिजेक्टेड नेताओ
जल्दी आओ अभी 99 टिकट बचे भी है...

   Over a month ago
SEND

मोदी की रैली में भाड़े पर गए लोग, रैली के बाद पैसा न मिलने पर भाजपाइयों को पीटा-
-----------------------------
नोएडा, भाजपा ने सोमवार को लखनऊ के रमाबाई मैदान में पीएम मोदी की महारैली की जिसमें दूसरे प्रदेशों और जिलों से गाड़ियों में भरकर कार्यकर्ता लाये गए जिनसे रैली में चलने के लिए कुछ वादे किये गए जिनसे कहा गया था की रैली में चलने पर उन्हें 300 रूपये, खाना और शराब दी जायेगी।

रैली में भाग लेने के लिए गाज़ियाबाद के युवाकों को ये लालच दिया गया था। यहाँ के स्थानीय नेताओं ने मजदूर युवकों को झांसा देकर रैली में ले गए नोटबंदी की वजह से खाली बैठे युवक इस आश्वासन पर रैली में चले गए। रैली से लौटते वक्त जब युवकों ने पैसे और शराब की मांग की तो भाजपा नेता अपने वादे से मुकर गया। जिससे उनके बीच शराब और पैसों को लेकर मारपीट हो गयी।

आपको बता दें कि, गाजियाबाद से करीब 50 बस और 550 कारों में भारी संख्या में रैली में लोगों को ढोकर ले जाय गया था जिसकी चर्चा लोगों के बीच बानी रही। बस में वापस आते समय उस वक्त विवाद पैदा हो गया जब पैसों और शराब को लेकर नेता और कार्यकर्ता आपस में भीड़ गए। देखते ही देखते बस के अंदर नेताओं और युवकों के बीच में ऐसी भिंड़त हुई जिसमें गाली गलौच और थप्पड़बाजी हो गई।

बस में बैठे लोगों ने जमकर इसका मजा लिया, हंगामे की गूंज जब गाजियाबाद पहुंची तो मीडिया के बीच सुर्खियां बन गई। इसके संबंध में जब संगठन के पदाधिकारियों से बातचीत की गई तो कोई खुलकर बोलने के लिए तैयार नहीं हुआ। उल्टा मामले को खत्म किए जाने की बात कहने लगे।

   Over a month ago
SEND

सर्वे -बसपा जीत रही है 250+सीटें , मायावती होंगी फिर मुख्मुख्यमंत्री
---------------------------------------------------------------------------------------------
: उत्तर प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनावों में बीएसपी को प्रचंड बहुमत मिल रहा है. ये एक सर्वे से खुलासा हुआ है, वहीं सीएम के रुप में अभी भी पूर्व मुख्यमंत्री मायावती राज्य की जनता की पहली पसंद बनी हुई हैं. सर्वे के अनुसार बसपा को 250 से ज्यादा सीटें मिलने का अनुमान है. नोटबंदी और सत्तासीन यादव परिवार में मची उठापटक का बसपा को फायदा मिलता दिखाई दे रहा है.
एक संगठन के द्वारा किए गये सर्वे राज्य के करीब 2 लाख लोग शामिल हुए. इस सर्वे में कुछ चौंकाने वाले तथ्य सामने आए हैं. समाजवादी पार्टी से नाराज पिछड़े वोटरों (गैर यादव) का रुझान भी बसपा की ओर दिखाई दे रहा है. उनका आरोप है कि सपा की सरकार में भला केवल यादवों का ही हुआ है.
मायावती सीएम के रुप में पहली पसंद
सूबे की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती हमेशा से अपने कड़े अनुशासन के कारण चर्चा में रही है. उनके शासनकाल में कोई भी बड़ा सांप्रदायिक दंगा नहीं हुआ. विरोधी भी मायावती के अनुशासन के कायल है. इसी कारण से अखिलेश यादव राज्य में काफी काम कराकर भी इस दौड़ में पिछड़ रहे हैं. 54 फीसदी लोगों की पहली पसंद मायावती बनी हुई हैं. जबकि 22 फीसदी लोग अखिलेश को दोबारा से मुख्यमंत्री देखना चाहते हैं।
यादववाद के कारण पिछडेगी समाजवादी पार्टी
गैर यादव वोटरों का आरोप है कि सपा सरकार से यादवों को छोड़कर किसी भी पिछड़ी जातियों का कोई भला नहीं हुआ है. सपा सरकार में केवल यादवों ने मलाई खाई है, जिससे अन्य पिछड़ी जातियां समाजवादी पार्टी से काफी नाराज दिखाई दे रही है और उनका रुझान बसपा की ओर बढ़ रहा है.
पीएम मोदी ने फिर जनता को धोखा दिया : मायावती
नोटबंदी के कारण पिछड़ी बीजेपी
2015 में बिहार चुनाव से पहले आरएसएस के प्रमुख मोहन भागवत ने आरक्षण की समीक्षा का बयान दिया था. जिसके कारण नीतीश कुमार के साथ काफी सालों तक सत्ता की मलाई खाने वाली भाजपा को मुंह की खानी पड़ी थी. पीएम मोदी की ताबड़तोड़ रैलियों के बावजूद बिहार में बीजेपी 54 सीटों पर ही सिमटकर रह गई थी. सर्वे में शामिल लोगों का मानना है कि नोटबंदी का फैसला भी भागवत के बयान की तरह भाजपा पर भारी पड़ने जा रही है.
नोटबंदी से जहां एक ओर करोड़ों लोगों का रोजगार छीन गया. वहीं व्यापारी और कारोबारी वर्ग भी इससे बुरी तरह से प्रभावित हुआ है. व्यापारी और कारोबारी वर्ग को ही बीजेपी का परंपरागत वोटर माना जाता है. लेकिन नोटबंदी के फैसले से इस वर्ग में भाजपा के लिए काफी रोष देखने को मिल रहा है. जिसके कारण बीजेपी सत्ता की रेस से पिछड़ती नजर आ रही है.

   Over a month ago
SEND

लखनऊ से समाजवादी पार्टी के हाल पर लाइव कमेंट्री.......

अब ये साइकल में चाहे जितनी रिपेयरिंग करवा लो, अब नहीं चलने वाली. कहीं चैन उतर जाती है, तो कभी ब्रेक नहीं लगती है, जब ज़्यादा ज़ोर लगाओ तो अगली ब्रेक लगती है, जिससे राम गोपाल चाचा गिर जाते हैं कैरियर से. दोनो पहियों के धुरे घिस गए हैं, छर्रे कटोरी भी काम के नहीं बचे हैं, जबरजस्ती ग्रीस लगाए पड़े हैं. फ्रीबेल भी फेल हो गया है. पैडल भी फँस फँस जाता है. और ट्यूब फट चुका है. गद्दी को लेकर चाचा भतीजे ने इतना खींचतान की है क़ि अब उसका कवर अमर सिंह के हाथ में चला गया है. आज़म ख़ान मिरगाट पर बैठने के जुगाड़ में हैं. मुलायम सिंह के हाथ में बची है केवल घंटी जो बिना मतलब के बजाने में लगे हैं.
( सीनियर पत्रकार सैयद कासिम साहब की वाल से साभार )

   Over a month ago
SEND

हमारे पास एक एक पैसे का हिसाब, बीजेपी अपने पैसों और खातों की
------------------------------------------------------------------------------------------- जानकारी दे -बहन कु0 मायावती जी
------------------------------------------------
नई दिल्ली। बहुजन समाज पार्टी और अपने भाई आनंद कुमार के अकाउंट की प्रवर्तन निदेशालय द्वारा जांच के बाद मायावती ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर केंद्र सरकार पर निशाना साधा है। मायावती ने कहा, 'बीएसपी ने काला धन नहीं जमा किया है और अगर बीएसपी के अकाउंट की जांच हो रही है तो बीजेपी यह भी बताए कि नोटबंदी से पहले और बाद में उसके अकाउंट में कितना पैसा जमा किया गया है।'

मायावती ने नोटबंदी के फैसले की आलोचना करते हुए कहा, 'अगर बीजेपी नोटबंदी की ही तरह एक-दो और फैसले ले लेती है तो उत्तर प्रदेश में बीएसपी को जीतने से कोई नहीं रोक सकता। बीजेपी खुद ही हार जाएगी।' मायावती ने कहा कि बीएसपी ने अपने नियमों के मुताबिक ही चलकर एक रूटिन प्रक्रिया के तहत ही पैसेबैंक में जमा कराए हैं। पार्टी के खाते में जमा कराए गए पैसों का खुलासा करते हुए उन्होंने कहा कि जो लोग पार्टी के मेंबर बनते हैं वे छोटे नोट नहीं बल्कि बड़े नोट में चंदा देते हैं।

   Over a month ago
SEND